Sunday, October 21, 2018

बेस्ट हिंदी ग़ज़ले - Best Hindi Ghazles 2018

SHARE
बेस्ट हिंदी गजलें - Best Hindi Ghazles 2018 | Hindi Ghazle | हिंदी ग़ज़लें | सबसे बढ़िया हिन्दी गज़ले | 2018 Hindi Ghazle




 #1 

प्रश्न जब ज्वलन्त हो गया
आदमी हलन्त हो गया
पाल ली है चार चेलियां
आजकल वो संत हो गया
बन सका न आदमी कभी
जोकि भगवन्त हो गया
नोकरी मिली नही उसे
इसीलिए महन्त हो गया
पात पात जो झरा नहीं
कैसे वो बसन्त हो गया
साथ मेरे गीत हो लिए
काफिला अनंत हो गया
रात भर की चैट क्या हुई
फ्रेंड से वो कन्त हो गया।


 #2 

भक्त जो अनन्य हो गये
पाप उनके छम्ह हो गये
जानते न जो प्रणाम को
आजकल प्रणम्य हो गये
बस गया है रूप आँख में
स्वप्न भी सुरम्य हो गये
चुटकुलों को तालियाँ मिली
मंच पै वे धन्य हो गये
पालते है साँप स्वार्थ के
मित्र भी जघन्य हो गये
जिंदगी का पाठ पड़ लिया
दर्द बोधगम्य हो गये


 #3 

साकी से सुराही से ना जाम मिले।
दिल को सुकूं मिले तो तेरे नाम से मिले।
कुछ इस कदर है हो गई दुनिया ये मतलबी,
साया भी मिले ज़िस्म से तो काम से मिले।
गलती से है जो फंस गया सोने की लंका में,
सीता सा मन वो सोचता कब राम से मिले।
जब भी हमें मिले वो हमसे इस कदर मिले,
पनघट पे राधिका घनश्याम से मिले।


 #4 

पल-पल गमों के रेले
ये ज़िन्दगी के मेले।
तन्हाई में जिये हम
रोते रहे अकेले।
बेदर्द के लिए हम
दर्दो-गमों को झेले।
जो भी मिले हैं अब तक
जज़्बात से ही खेले।
क्यों है खड़े वहीं पर
हम आज भी अकेले।
खामोश है खुदा भी
झेले सभी झमेले
मौला तू ही है साथी
आगोश में तू ले ले।


 #5 

मिली क्या शुहरते थोड़ी जमाना भूल जाता है।
खुदा के सामने भी सर झुकाना भूल जाता है।।
जो अपने माता पिता को वृद्ध आश्रम छोड़ के आता।
वही बेटा यहाँ पर मुस्कुराना भूल जाता है।।
मेरे हमदम कभी जब रूठते तो मैं मानती हूँ।
मगर मैं रूठ जाऊँ तो मनाना भूल जाता है।।
हक़ीक़त है यही यारों गुमां हो जिनको दौलत पर।
वही इंसां खुदा के दर पर जाना भूल जाता है।।


 #6 

न मुश्किलात बढ़ाओ हमारी जिंदगी में और
लड़ने का उनसे मेरा हौसला बढ़ जायेगा।
कदम बढ़ाके फिर पीछे हटूँ फितरत नही मेरी
खारों से उलझकर तो मेरा हौसला बढ़ जायेगा।
शमद बनकर मिटाऊ तोरगी की चाह है मेरी
किसी की ज़िंदगी रोशन करूँ तो हौंसला बढ़ जायेगा।
मंज़िले दूर हो चाहे राह में हो भले पत्थर
हमसफर संग होंगे तुम तो मेरा हौंसला बढ़ जाऐगा।
न लाना फूल मेरी कब्र पर है इल्तिजा मेरी
तेरे छूते ही उठने का मेरा हौंसला बढ़ जायेगा।


All Gazals Are Copyrighted By The Respected Owner. FamousHindi.Com Find It From Somewhere Only For Sharing Purpose. Thanks
SHARE

Author: verified_user

0 Comments: