Friday, July 12, 2019

क्यो पड़ते है श्री जगन्नाथ भगवान प्रत्येक वर्ष बीमार...... ?



उड़ीसा प्रान्त में जगन्नाथ पूरी में एक भक्त रहते थे , श्री माधव दास जी  अकेले रहते थे , कोई संसार से इनका लेना देना नही।

अकेले बैठे बैठे भजन किया करते थे , नित्य प्रति श्री जगन्नाथ प्रभु का दर्शन करते थे और उन्ही को अपना सखा मानते थे , प्रभु के साथ खेलते थे।

प्रभु इनके साथ अनेक लीलाए किया करते थे प्रभु इनको चोरी करना भी सिखाते थे भक्त माधव दास जी अपनी मस्ती में मग्न रहते थे

एक बार माधव दास जी को अतिसार( उलटी – दस्त ) का रोग हो गया। वह इतने दुर्बल हो गए कि उठ-बैठ नहीं सकते थे , पर जब तक इनसे बना ये अपना कार्य स्वयं करते थे और सेवा किसी से लेते भी नही थे।

कोई कहे महाराजजी हम कर दे आपकी सेवा तो कहते नही मेरे तो एक जगन्नाथ ही है वही मेरी रक्षा करेंगे । ऐसी दशा में जब उनका रोग बढ़ गया वो उठने बेठने में भी असमर्थ हो गये ,

 तब श्री जगन्नाथजी स्वयं सेवक बनकर इनके घर पहुचे और माधवदासजी को कहा की हम आपकी सेवा कर दे।

भक्तो के लिए अपने क्या क्या नही किया…
क्यूंकि उनका इतना रोग बढ़ गया था की उन्हें पता भी नही चलता था की कब मल मूत्र त्याग देते थे। वस्त्र गंदे हो जाते थे।

उन वस्त्रो को जगन्नाथ भगवान अपने हाथो से साफ करते थे , उनके पुरे शरीर को साफ करते थे , उनको स्वच्छ करते थे।

कोई अपना भी इतनी सेवा नही कर सके , जितनी जगन्नाथ भगवान ने भक्त माधव दास जी की करी है।

भक्त माधव दास जी पर प्रभु का स्नेह.........

जब माधवदासजी को होश आया , तब उन्होंने तुरंत पहचान लीया की यह तो मेरे प्रभु ही हैं।
एक दिन श्री माधवदासजी ने पूछ लिया प्रभु से –



 “ प्रभु आप तो त्रिभुवन के मालिक हो , स्वामी हो , आप मेरी सेवा कर रहे हो आप चाहते तो मेरा ये रोग भी तो दूर कर सकते थे , रोग दूर कर देते तो ये सब करना नही पड़ता ”

ठाकुरजी कहते हा देखो माधव मुझसे भक्तों का कष्ट नहीं सहा जाता , इसी कारण तुम्हारी सेवा मैंने स्वयं की। जो प्रारब्द्ध होता है उसे तो भोगना ही पड़ता है।

अगर उसको काटोगे तो इस जन्म में नही पर उसको भोगने के लिए फिर तुम्हे अगला जन्म लेना पड़ेगा और मै नही चाहता की मेरे भक्त को ज़रा से प्रारब्द्ध के कारण अगला जन्म फिर लेना पड़े ,

 इसीलिए मैंने तुम्हारी सेवा की लेकिन अगर फिर भी तुम कह रहे हो तो भक्त की बात भी नही टाल सकता

भक्तो के सहायक बन उनको प्रारब्द्ध के दुखो से , कष्टों से सहज ही पार कर देते है प्रभु
अब तुम्हारे प्रारब्द्ध में ये 15 दिन का रोग और बचा है , इसलिए 15 दिन का रोग तू मुझे दे दे
15 दिन का वो रोग जगन्नाथ प्रभु ने माधवदास जी से ले लिया

आज भी इसलिए जगन्नाथ भगवान होते है बीमार.......

वो तो हो गयी तब की बात पर भक्त वत्सलता देखो आज भी वर्ष में एक बार जगन्नाथ भगवान को स्नान कराया जाता है ( जिसे स्नान यात्रा कहते है )

स्नान यात्रा करने के बाद हर साल 15 दिन के लिए जगन्नाथ भगवान आज भी बीमार पड़ते है।

15 दिन के लिए मंदिर बंद कर दिया जाता है  कभी भी जगनाथ भगवान की रसोई बंद नही होती पर इन 15 दिन के लिए उनकी रसोई बंद कर दी जाती है।

 भगवान को 56 भोग नही खिलाया जाता , ( बीमार हो तो परहेज़ तो रखना पड़ेगा )

प्रभु को लगाया जाता है काढ़ो का भोग.........

15 दिन जगन्नाथ भगवान को काढ़ो का भोग लगता है | इस दौरान भगवान को आयुर्वेदिक काढ़े का भोग लगाया जाता है। जगन्नाथ धाम मंदिर में तो भगवान की बीमारी की जांच करने के लिए हर दिन वैद्य भी आते हैं।

काढ़े के अलावा फलों का रस भी दिया जाता है। वहीं रोज शीतल लेप भी लगया जाता है। बीमार के दौरान उन्हें फलों का रस, छेना का भोग लगाया जाता है और रात में सोने से पहले मीठा दूध अर्पित किया जाता है।

भगवान जगन्नाथ बीमार हो गए है और अब 15दिनों तक आराम करेंगे। आराम के लिए 15 दिन तक मंदिरों पट भी बंद कर दिए जाते है और उनकी सेवा की जाती है। ताकि वे जल्दी ठीक हो जाएं।

जिस दिन वे पूरी तरह से ठीक होते है उस दिन जगन्नाथ यात्रा निकलती है, जिसके दर्शन हेतु असंख्य भक्त उमड़ते है।

खुद पे तकलीफ ले कर अपने भक्तो का जीवन सुखमयी बनाये। ऐसे तो सिर्फ मेरे भगवान ही हो सकते है ।।


जय जगन्नाथ जी !

Tuesday, February 26, 2019

चुनाव 2019: कांग्रेस ने बनाए मोदी के मीम, मोदी के स्लोगन का उड़ाया मजाक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रैली में एक स्लोगन दिया था - "मोदी है तो मुमकिन है।" मोदी ने इस स्लोगन के साथ बताया था कि कई ऐसे मुद्दे थे, जिन पर पहले देश में सिर्फ चर्चाएं होती थीं, लेकिन मोदी ने उसे कर दिखाया।

इसलिए मोदी है तो मुमकिन है। मोदी ने ही सैनिकों को वन रैंक, वन पेंशन देने का फैसला किया। लेकिन कांग्रेस ने इस स्लोगन का ट्विटर पर जमकर मजाक उड़ाया है। क्योंकि चुनाव नजदीक आ चुके है, तो ऐसे में हर पार्टी एक दूसरे की टांग खिंचने में लगी पड़ी है।
कई ट्वीट में कांग्रेस ने मीम शेयर किए हैं और बताया है कि मोदी के आने से पहले क्या-क्या नामुमकिन था। और आने के बाद क्या क्या मुमकिन हो गया। कांग्रेस ने ट्विटर पर #NamumkinAbMumkinHai हैशटैग का उपयोग किया है।

कांग्रेस ने #NamumkinAbMumkinHai के साथ बहुत से ट्वीट करें है। कांग्रेस ने एक ट्वीट में लिखा - चौकीदार का चोरी करना नामुमकिन था, चौकीदार ही चोर निकला, क्योंकि #NamumkinAbMumkinHai




एक अन्य ट्वीट में कांग्रेस ने लिखा - 45 सालों की सबसे ज्यादा बेरोज़गारी नामुमकिन थी, पहले युवाओं के पास रोज़गार था। लेकिन, अब युवाओं को पकोड़े तलने के लिए मजबूर किया जा रहा है। क्योंकि #NamumkinAbMumkinHai


कांग्रेस ने इस ट्वीट में लिखा - साल भर में कारोबार 16,000 गुना उछलना पहले नामुमकिन था, "शाह" ज्यादा खा गया, क्योंकि #NamumkinAbMumkinHai


Entire Political Science में डिग्री लेना नामुमकिन था, देश की शिक्षा व्यवस्था में एक अदृश्य डिग्री का जन्म हुआ, क्योंकि #NamumkinAbMumkinHai


जनता से 30,000 करोड़ लूट अपने मित्रों की जेबें भरना नामुमकिन था, जनता के पैसों से अपने चहेतों की जेब भरी गयी, क्योंकि #NamumkinAbMumkinHai



सुप्रीम कोर्ट में झूठ बोलकर सच्चाई छुपाना नामुमकिन था, देश की सबसे बड़ी अदालत का मज़ाक उड़ाया गया, क्योंकि #NamumkinAbMumkinHai

Saturday, February 23, 2019

UP: जमीन घोटाले की जांच के लिए गई CBI टीम को लोगो ने दौड़ाकर पीटा, 2 अफसर हुए घायल

सीबीआई की एक टीम पर सुनपुरा गांव वालों ने हमला बोल दिया। उग्र ग्रामीणों ने सीबीआई टीम को काफी दूर तक दौड़ाया और उन पर हमला किया।



घटना उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा के सुनपुरा गांव की है जहां शनिवार सुबह सीबीआई की 6 सदस्य टीम 126 करोड़ रुपये के जमीन घोटाले की जाँच करने गांव में पहुंची थी, जहाँ पर ग्रामीणों ने सीबीआई टीम पर हमला बोल दिया, और उन्हें दौड़ा दिया, हमले में सीबीआई के अफसर घायल हो गए।

सीबीआई ने हमलावरों के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराई है। सीबीआई स्थानीय पुलिस को बिना बताए ही इस जांच के लिए गई हुई थी। जांच की बात सुनते ही गांव वालों ने सीबीआई की टीम को काफी दूर तक दौड़ाया।

ग्रेटर नोएडा के एसपी विनीत जयसवाल ने बताया कि टीम जांच के सिलसिले में सुनपुरा गांव गई हुई थी जहां आरोपी परिवार के लोगों ने टीम के साथ बदसलूकी की, केस दर्ज कर लिया गया है। घटना की जांच की जा रही है।

Friday, February 22, 2019

उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव 2019 : सपा 37 और बसपा 38 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, यहाँ देखे पूरी लिस्ट


उत्तर प्रदेश लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने अपनी अपनी सीटों की लिस्ट जारी कर दी है। जहाँ यूपी में सपा 37 और बसपा 38 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। वहीं, राष्ट्रीय लोकदल के लिए तीन सीटें मुजफ्फरनगर, बागपत और मथुरा में छोड़ दी गई हैं। वहीं, कांग्रेस के लिए पहले ही बसपा और सपा गठबंधन ने रायबरेली और अमेठी की सीट पर चुनाव न लड़ने का फैसला किया था। इसीलिए इस लिस्ट में इनका जिक्र भी नही है।